Monday, 8 June 2015

मोदी सरकार को परेशान मत करो RSS ने अपने लोगों से कहा

डॉ. अरूण जैन
आरएसएस के जॉइंट जनरल सेक्रटरी दत्तात्रेय होसबोले ने  सहायक संगठनों को चेतावनी देते हुए मोदी सरकार के इकॉनमिक रिफॉर्म्स में किसी प्रकार की बाधा ना डालने को कहा है। साथ ही उन्होंने आर्थिक अजेंडा तय करने में संघ की भूमिका का भी जिक्र किया। होसबोले ने भारतीय मजदूर संघ की मीटिंग में कहा कि आरएसएस ने केंद्रीय मंत्रालयों को 72 ऐसे पॉइंट भेजे हैं, जिन पर तुरंत अमल करने के लिए कहा गया है। होसबोले के मुताबिक बीजेपी सरकार के शासन में देश को राजनीतिक दलालों से मुक्त कराया गया और यह बड़ा बदलाव है। सरकार सही ट्रैक पर है और ऐसे में उसके फैसलों को टकराव का मुद्दा बनाने की बजाय सहयोग से काम करना चाहिए। बीजेपी सरकार देश हित में काम कर रही है और उसकी मंशा पर संदेह नहीं किया जा सकता। होसबोले ने भारतीय मजदूर संघ से दूसरे ट्रेड यूनियन की तरह टकराव की स्थिति से बचने को कहा। मजदूर संघ की मांगों के बारे में होसबोले ने कहा कि उनकी 72 में से 43 मांगों को आसानी से सुलझाया जा सकता है। गौरतलब है कि मार्च में आयोजित हुई आरएसएस की तीन-दिवसीय मीट में भारतीय मजदूर संघ और भारतीय किसान संघ ने मोदी सरकार के लेबर लॉ रिफॉर्म और आर्थिक नीतियों के प्रति नाराजगी जताई थी। होसबोले के मुताबिक सरकार भूमि बिल, लेबर लॉ, बैंकिंग, रक्षा क्षेत्र में विदेशी निवेश और बीमा इत्यादि क्षेत्रों में बढिय़ा काम कर रही है। 26 मई को मोदी सरकार के एक साल पूरा होने पर भारतीय मजदूर संघ ने दूसरे संगठनों के साथ मिलकर मोदी सरकार की नीतियों के खिलाफ आंदोलन करने की योजना बनाई थी। इन संगठनों के मुताबिक मोदी सरकार लेबर लॉ में गलत प्रावधान लाने और मजदूरी को सस्ता बनाने का प्रयास कर रही है। होसबोले का यह बयान ऐसे मौके पर आया है जब बीजेपी का पूरा शीर्ष संगठन नागपुर में संघ प्रमुख मोहन भागवत से मिलने और सरकार के एक साल पूरा होने पर उनसे चर्चा करने पहुंच रहा है।

No comments:

Post a comment