Wednesday, 5 October 2016

चाइना सदर्न ने अमेरिकी उड़ानों पर भारतीय परम्परागत भोजन शुरू किया


सेन फ्रांसिस्को से अरूण जैन
आखिरकार ब्लूआईजन्यूज. कॉम की पहल रंग लाई और चाइना सदर्न एयरलाइन्स ने अपनी समस्त अमेरिकी उड़ानों पर आने-जाने वाले भारतीयों एवं अन्य यात्रियों को पूर्ण शाकाहारी भोजन देना शुरू कर दिया। इस भोजन में भी भारतीय परम्परागत भोजन यात्रियों को दिया जा रहा है। ब्लूआइजन्यूज ने पिछले माह इस मुद्दे को प्रमुखता से उठाया था कि चाइना सदर्न एयरलाइन अमेरिका जाने वाले भारतीयों को ‘बीफ’ परोस रही है, नो वेज फूड।
यह समाचार प्रकाशित होने के बाद इस एयरलाइन के चीन स्थित संचालक हरकत में आए। पता लगाया गया कि ऐसा कैसे हुवा। जानकारी मिली कि चाइना सदर्न ‘वेज फूड’ के नाम पर कुछ भी नही रखती, यात्रा के दौरान। जबकि, इस एयरलाइन से प्रतिदिन बड़ी संख्या में भारतीय नागरिक अमेरिका आते-जाते हैं। सेन फ्रांसिस्को जाते समय जब भारतीय पत्रकारों ने शाकाहारी भोजन मांगा तो वायुयान में एयर होस्टेस और केप्टेन ने आश्चर्य व्यक्त किया कि वे केवल ‘बीफ’ परोस सकते हैं। क्योंकि यात्रा में ‘वेज फूड’ रखा ही नही जाता। नाराजी जताने पर उन्होने कहा कि वेज फूड जैसी कोई व्यवस्था है ही नही। बड़ी जद्दोजहद के बाद अमेरिका जाते समय पत्रकारों को सेंवफल और कुछ अन्य फल खाने के लिए उपलब्ध कराए गए। सहज ही ब्लूआइजन्यूज. कॉम ने इसे प्रमुखता से प्रकाशित किया। तब चीन से एयरलाइन संचालकों ने पत्रकारों को संदेश दिया कि लौटते समय से वे ध्यान रखेंगे कि सभी भारतीयों को ‘वेज फूड’, विशेष कर भारतीय परम्परागत भोजन मिले। उन्होने भारतीय दल के ‘आर्गेनाइजर’ को दूरभाष पर आश्वस्त करते हुए कहा कि वापसी यात्रा पर वे सेन फ्रांसिस्को में पत्रकारों से तस्दीक कर लेवें। उस समय सुखद आश्चर्य हुवा जब वापसी के लिए चाइना सदर्न में बठने के कुछ ही देर बाद एयर होस्टेस ने अरूण जैन और ओमप्रकाश मेहता से सीधे आकर पूछा कि सर! वेज फूड लेंगे। हां, कहने पर सबसे पहले दोनों को वेज फूड दिया गया। उसके बाद वायुयान में बैठे अन्य करीब 40-45 भारतीय यात्रियों को वेज फूड दिया गया। इसमें भी छोले, चांवल, पाव-भाजी, दही आदि प्रमुख थे। बताया गया कि टिकिट पर ‘वेज फूड’ दर्ज कराने पर एयरलाइन ने नामजद ‘वेज फूड’ मांग के अनुसार और अतिरिक्त रूप से प्रत्येक उड़ान पर रखना शुरू कर दिया है। एयर लाइन को पत्रकारों की ओर से धन्यवाद और साधुवाद।

No comments:

Post a comment