Monday, 6 July 2015


मध्यप्रदेश के वरिष्ठ पत्रकार डाॅ. अरूण जैन राष्ट्रीय भारत एक्सीलेंस अवार्ड और गोल्ड मेडल से सम्मानित


उज्जैन/मध्यप्रदेश के वरिष्ठ पत्रकार डाॅ. अरूण जैन (उज्जैन) को नई दिल्ली के इंडिया इंटरनेशनल सेंटर के खचाखच जनसमूह से भरे सी.डी. देशमुख मेमोरियल आडिटोरियम में राष्ट्रीय भारत एक्सीलेंस अवार्ड और गोल्ड मेडल से सम्मानित किया गया । सम्मानित करने वाली प्रमुख हस्तियां थी जनता दल यूनाइटेड की वूमन सेल की राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमती लक्ष्मी  गोस्वामी, प्रख्यात नृत्यांगना पद्मश्री श्रीमती गीता चंद्रन, वेगमेन्स इंडस्ट्रीज समूह के चेयरमेन डाॅ. एस.के. गुप्ता, पूर्व राष्ट्रीय निर्वाचन आयुक्त डाॅ. जीवीजी कृष्णमूर्ति और मध्यप्रदेश के कृषि मंत्री और सांसद रहे श्री रामकृष्ण कुसुमारिया ।
फ्रेंडशिप फोरम आॅफ इंडिया के इस प्रतिष्ठित आयोजन में देश भर की प्रमुख हस्तियों को अपने-अपने क्षेत्र की सतत और समर्पित सेवाओं के लिए सार्वजनिक रूप से सम्मानित किया गया । सम्मानित होने वालों में मणिपुर, त्रिपुरा, असम, पश्चिमी बंगाल, बिहार-झाारखंड, उत्तरप्रदेश, राजस्थान, मध्यप्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र, दक्षिण भारत की विशेषज्ञ हस्तियां शामिल थी ।
समारोह को संबोधित करते हुए श्रीमती लक्ष्मी गोस्वामी ने कहा कि सरकारी सम्मान हों अथवा सामाजिक सम्मान, ये सम्मान आसानी से नहीं मिलते। वर्षों अपने क्षेत्र में सतत और अच्छे काम ही इस सम्मान का आधार बनते हैं । यह मत सोचिए कि देश ने हमें क्या दिया । बल्कि यह सोचने की जरूरत है कि हमने देश को क्या दिया। आज की युवा पीढ़ी को राष्ट्रीय एकता-समन्वय का महत्व बताने की सख्त आवश्यकता है । देश की समृद्धि के लिए राष्ट्रीय एकता जरूरी है । मीडिया, फिल्म, टेलीविजन की इस दिशा में महत्वपूर्णं भूमिका है ।
डाॅ. एस.के. गुप्ता ने सम्मानित हस्तियों को बधाई देते हुए कहा कि जो लोग अपने क्षेत्रों में अच्छा काम करते हैं उन्हे सार्वजनिक सम्मान देकर प्रोत्साहित करें तो स्वतः अच्छे कार्य करने की प्रेरणा मिलती है । ऐेसे समारोहों से अच्छा काम करने वालों की संख्या निश्चित रूप से बढ़ेगी। मेरी मान्यता है कि समाज में 99 प्रतिशत अच्छे लोग हैं । आपने प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी और उनके कामों की प्रशंसा करते हुए कहा कि न्यायालयीन, पत्रकारिता के क्षेत्र में कार्य स्थितियां और वातावरण सुधरा है ।
पद्मश्री श्रीमती गीता चंद्रन ने व्यथित होते हुए कहा कि बालीवुड और चिकन टिक्का आज की पसंद हो गई है । यह ठीक नही है। जरूरत कम्युनिटी और सोसायटी को समृद्ध करने की है । हर क्षेत्र में युवा पीढ़ी को आगे लाया जाना चाहिए । उन्हे राष्ट्रीय संस्कृति, महापुरूषों के जीवन चरित्र की समझाइश दी जाना चाहिए ।
जीवीजी कृष्णमूर्ति ने कहा कि हर क्षेत्र में काम करने वालों की संख्या बहुत है । पर सार्वजनिक सम्मान बिरलों को ही मिलता है, जो आसान नही है । नेताजी सुभाषचंद्र बोस, सरदार वल्लभभाई पटेल और महात्मा गांधी का स्मरण करते हुए आपने अपने व्यक्तिगत अनुभव सुनाए । आपने कहा कि अनुभव, ज्ञान से भी बड़ा है । हमारा देश सभी धर्मों, भाषाओं संस्कृतियों और राज्यों की फूल माला है । इसे बनाए रखने के लिए हर प्रयास करें । क्योंकि देश रहेगा तो हम रहेंगे ।
रामकृष्ण कुसुमारिया ने कहा कि हमारे देश की विशेषता अनेकता में एकता है। हमारे देश का संविधान विश्व का सबसे मजबूत संविधान है। आपने कहा कि 10वीं तक की शिक्षा अनिवार्य तो हो पर अच्छी भी होना चाहिए । इसके लिए व्यवस्थाएं सुधारना होगी । शिक्षा, आर्थिक विकास और समग्र विकास का एक जरूरी भाग है ।

No comments:

Post a comment