Monday, 8 February 2016

सिंहस्थ में खलल डाल सकते हैं खंडवा से फरार हुए सिमी आतंकवादी , रेलवे को सतर्क रहने के निर्देश

डॉ. अरूण जैन
सिंहस्थ के चलते रेलवे ने सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद करने की तैयारी कर ली है।   खुफिया विभाग के अनुसार करीब दो साल पहले खंडवा जेल से भागे सिमी के गुर्गे उज्जैन सिंहस्थ में खलल डाल सकते हैं। इसके चलते एटीएस के एक वरिष्ठ अधिकारी को उज्जैन का प्रभार देकर भेजा गया है।  खुफिया विभाग ने सूचना दी है कि यह फरार आतंकी यहां गड़बड़ी कर सकते हैं। इसलिए इन पर विशेष नजर रखने की जरूरत है।  इसके चलते विभाग ने आरपीएफ व जीआरपी से इस मामले में सहयोग मांगा है। रेलवे अधिकारियों को शंका है कि यह लोग उज्जैन पहुंचने के लिए रतलाम से ट्रेन, सडक़ मार्ग के अलावा अन्य किसी भी रास्ते का उपयोग कर सकते हैं। इसी को लेकर सुरक्षा व्यवस्था दुरूस्त की गई है। इसको लेकर स्टेशनों पर मेटल डिटेक्टर, बम निरोधन दस्ता, खोजी श्वान की मदद ली जाएगी।  2013 में सिमी के यह गुर्गे खंडवा जेल से फरार हुए थे। इनमें से कुछ पकड़े गए तो कुछ तेलंगाना में मुठभेड़ के दौरान आमने-सामने की लड़ाई में मारे गए। इनके अलावा अब भी चार गुर्गे फरार हैं। जिनकी तलाश में अलग अलग संगठन लगे हैं। महाराष्ट्र एटीएस ने इनके ऊपर 5 लाख रुपए का तो एनआईए ने 10 लाख रुपए का इनाम रखा है। पुलिस व एटीएस को मेहबूब गुड्डू, जाकिर, अमजद व सलीख की तलाश है। यह चारों बिजनौर उत्तर प्रदेश में ब्लास्ट के बाद से फरार चल रहे हैं।हालांकि खुफिया विभाग को इनके बीच में राजस्थान व महाराष्ट्र बार्डर होने की सूचना मिली थी, लेकिन इसमें अधिक नहीं हो पाया।              सिमी के गुर्गे कुछ कर न पाएं, इसके लिए विशेष जागरुकता की जरुरत है। रेलवे को इसके लिए अतिरिक्त चौकसी के लिए कहा है।  महेंद्र खत्री, सिंहस्थ प्रभारी, पुलिसविभाग आतंकी पकड़ में आएं इसके लिए हमारा विभाग जागरुक है। चौकसी को बढ़ाया गया है। इसके अलावा यात्रियों से भी अपील है कि कुछ संदिग्ध दिखे तो तुरंत 138 या 182 पर सूचना दें। एस सुधाकर, मंडल सुरक्षा आयुक्त, रतलाम रेल मंडल

No comments:

Post a comment