Tuesday, 18 April 2017

इतिहास ही नहीं खूबसूरती में भी अलग स्थान है जेनेवा का

डॉ. अरूण जैन
स्विटजरलैंड को पृथ्वी का स्वर्ग भी कहा जाता है। विश्व में इस जैसे देश गिने−चुने ही हैं जो स्वास्थ्यप्रद जलवायु, प्रदूषणरहित परिवेश और व्यवस्थित शहरों से भरे हों। स्विटजरलैंड तीन तरफ से तीन देशों− फ्रांस, जर्मनी और इटली से घिरा हुआ है। स्विटजरलैंड में घूमने लायक कई जगहें हैं जिनमें जेनेवा, ल्यूसर्ने, ज्यूरिख आदि प्रमुख हैं लेकिन यदि आपको समय या पैसे को ध्यान में रखते हुए कोई एक शहर घूमना हो तो बेशक जेनेवा ही जाएं। जेनेवा एक समृद्धिशाली, वैभवपूर्ण, स्वच्छ और सुव्यवस्थित शहर होने के कारण पूरे विश्व भर में प्रसिद्ध है। यही कारण है कि विभिन्न प्रकार के अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन यहां समय-समय पर आयोजित किए जाते रहते हैं। जेनेवा के प्रसिद्ध स्थलों में घड़ी संग्रहालय, प्राकृतिक इतिहास संग्रहालय, कला व इतिहास संग्रहालय और झील एवं बगीचा शुमार हैं। घड़ी संग्रहालय पूरे संसार में अपनी तरह का अकेला संग्रहालय है। पिछले 500 सालों में अब तक जितनी तरह की कलाई, टेबल और दीवार घडिय़ां बनाई गई हैं, उन सबके नमूने यहां पर प्रदर्शित किए गए हैं। यहां पर एक अनोखी घड़ी भी है जो ठीक 12 बजे समय के प्रभाव को अनोखे ढंग से प्रदर्शित करती है।  लगभग 75 साल पहले विषेशज्ञों द्वारा तैयार किया गया पैलेस द नेस्यो भवन संयुक्त राष्ट्र के यूरोप संभाग का मुख्यालय है। संसार भर में महत्वपूर्ण माने जाने वाले इस 13 मंजिले भवन पर हर यूरोपीय देश की वास्तुकला की छाप है। सन् 1975 में बनाये गये अत्याधुनिक प्राकृतिक इतिहास संग्रहालय में अनेक दुर्लभ वस्तुओं के अलावा लगभग हर तरह के पशु-पक्षियों के मॉडल का संग्रह मौजूद है।  पुराने और नए जेनेवा शहर के बीच विभाजक रेखा माने जाने वाली झील और बगीचा नामक झील का अपना अलग सौंदर्य और आकर्षण है। इसका जल अत्यंत स्वच्छ रहने के कारण नीला मालूम पड़ता है। इस झील में नौका विहार किए बिना लौटने का अर्थ जेनेवा की अपनी यात्रा को अधूरी छोडऩे जैसा है।

No comments:

Post a comment