Tuesday, 18 April 2017

दुष्कर्मियों को मौत की सजा का कानून बनेगा


डॉ. अरूण जैन
उत्तर प्रदेश में नए मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने एंटी रोमियो स्क्वॉड बनाई तो यूपी में छेडख़ानी करने वाले मनचलों की शामत आ गई। एंटी रोमियो स्क्वॉड के बनए एक हफ्ते ही हुए और मनचले अपने घरों में दुबक गए। यूपी के सीएम आदित्यनाथ योगी की ये योजना पड़ोसी राज्य मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को भी खूब पसंद आई है। यूपी में एंटी रोमियो स्क्वॉड के शुरू किए जाने के एक हफ्ते बाद मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने भी मनचलों पर इसी तरह की कार्रवाई किए जाने का ऐलान किया है। एक कदम आगे बढ़ते हुए शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि उनकी सरकार दुष्कर्म के दोषियों को फांसी की सजा देने का कानून भी लाएगी। दुष्कर्म के दोषियों को सीधे फांसी देने की मांग अक्सर उठती रहती है। यह तीसरी बार है जब शिवराज सिंह चौहान ने भी दुष्कर्म के दोषियों को मौत की सजा दिए जाने की बात कही है। हालांकि उन्होंने ये पहली बार कहा है कि एक तय वक्त में वो इस बारे में कानून को भी ला सकते हैं। शुक्रवार को भोपाल पुलिस अकादमी के पासिंग आउट परेड में पहुंचे शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि हम इस मानसून सत्र में विधानसभा में बिल पेश करेंगे। अगर यह पारित हो जाता है तो इसे लागू करने के लिए राष्ट्रपति के पास भेजा जाएगा। शिवराज ने कहा कि राज्य में मनचलों के खिलाफ एक अभियान चलाएंगे ताकि बहन-बेटियां सुरक्षित रहें। शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मनचलों को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा। वो मानते हैं कि महिलाओं की सुरक्षा के लिए जरूरी है कि अपराधियों में इस बात का खौफ रहे कि अपराध के लिए उन्हें सख्त सजा मिलेगी। दुष्कर्म जैसे जघन्य अपराध करने वालों को इस बात का खौफ रहे कि अगर वो ऐसा अपराध करते हैं तो खुद भी जिंदा नहीं रह पाएंगे। शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि विकास के लिए जरूरी है कि राज्य में अच्छी कानून व्यवस्था हो, जोकि पुलिस की जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा कि दुष्कर्मियों को फांसी देने का कानून लाने के लिए भारतीय दंड संहिता (ढ्ढक्कष्ट) में संशोधन की जरूरत पड़ेगी, लेकिन इसके लिए अपनी तरफ से की जा सकने वाली कोशिशों से वो पीछे नहीं हटेंगे। शिवराज सिंह लगातार शराब के खिलाफ बोलते आए हैं और नर्मदा के आसपास खुली शराब की दुकानों को बंद करने की बात उठा चुके हैं। ऐसे में अब महिलाओं से अपराध करने वालों कड़ी सजा देने की बात कहकर वह राज्य की महिलाओं की नजर में और अच्छी छवि बना लेंगे। उन्हें इसका फायदा 2018 में होने वाले विधानसभा चुनाव में हो सकता है। शिवराज सिंह अच्छी तरह जानते हैं कि मध्य प्रदेश दुष्कर्म के मामले में सबसे ऊपर है। नेशनल क्राइम रिकार्ड ब्यूरो के पिछले कुछ वर्षों के आंकड़ों ने इस मुद्दे पर देश भर में राज्य की छवि को नुकसान पहुंचाया है। मुख्यमंत्री चौहान इसी छवि से लड़ रहे हैं और इससे मुक्ति दिलाने के लिए प्रयासरत हैं। इसीलिए उन्होंने कहा कि विधानसभा के मानसून सत्र में विधेयक लाकर दुष्कर्मियों को मौत की सजा का कानून बनाया जाएगा।

No comments:

Post a comment