Tuesday, 28 June 2016

असम-बंगाल चुनाव के बाद भाजपा में बड़ा उलटफेर

दो सीएम बदल सकते हैं 


डॉ. अरूण जैन
असम और बंगाल चुनाव के बाद भाजपा बड़े उलटफेर के मूड में है। इसके संकेत भाजपा ने एक प्रदेश के संगठन मंत्री को बदलकर दे दिये हैं, जिसका आदेश रातोंरात ईमेल द्वारा भेजकर अमित शाह ने सबको चकित कर दिया। गौरतलब है कि अभी असम, बंगाल और केरल में चुनाव चल रहे हैं। इन चुनावों में बंगाल और केरल की तुलना में भाजपा को सबसे ज्यादा उम्मीदें असम से हैं। यदि असम में भाजपा सरकार बना लेती है तो मोदी शाह की जोड़ी विहार की हार से उबरकर ताकतवर बनकर उभरेगी। ऐसे में उन मुख्यमंत्रियों की कुर्सी खतरे में पड़ सकती है जो आये दिन आलाकमान को चुनौती देते रहते हैं। इनमें पहला नाम राजस्थान की मुख्यमंत्री बसुंधरा राजे का आता है जो शुरू से ही मोदी और शाह की आँख की किरकिरी बनी हुई हैं। बसुंधरा को हटाकर आलाकमान वहां ओम माथुर या कोई अन्य अपनी पसंद का चेहरा बिठा सकता है। दूसरे नंबर पर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का नाम आता है। कमजोर प्रशासनिक पकड़ और व्यापमं घोटाले के कारण शिवराज की कुर्सी भी जाना तय है। अभी हाल ही में शिवराज की पसंद माने जाने वाले प्रदेश के संगठन मंत्री अरविन्द मेनन को अमित शाह ने रातों रात हटा दिया जो शिवराज को बहुत बड़े झटके के रूप में देखा जा रहा है। शिवराज की जगह प्रदेश के ही किसी बड़े नेता को कमान सौंपी जा सकती है। नरेंद्र सिंह तोमर शिवराज से नजदीकी के कारण पहले ही रेस से बाहर हो चुके है, वहीं कैलाश विजयवर्गीय की छवि भी ईमानदार राजनेता की नहीं है। सुगनी देवी ज़मीन घोटाले और सिंघस्थ घोटाले में नाम आने के कारण कैलाश का नाम भी रेस से बाहर बताया जा रहा है। ऐसे में राज्य की कैबिनेट मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया आलाकमान की पसंद हो सकती हैं। अपनी ईमानदार छवि और कड़क प्रशासनिक क्षमता के चलते यशोधरा राजे को मध्यप्रदेश की कमान सौंपी जा सकती है। आलाकमान यशोधरा के जरिये एक तीर से दो निशान साधना चाहता है। एक तो उनकी बहन वसुंधरा राजे को सीएम पद से हटाने के कारण उनकी नाराजगी कुछ हद तक दूर होगी वहीं कांग्रेस भी उनके भतीजे और गुना से सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को अगले चुनाव में मुख्यमंत्री प्रोजेक्ट करने पर विचार कर रही है। ज्योतिरादित्य मध्यप्रदेश के सबसे ज्यादा जनाधार वाले कांग्रेसी नेताओं में सुमार हैं, और कांग्रेस की नैया पार लगाने की क्षमता रखते हैं। ऐसे में यशोधरा का नाम आगे कर भाजपा कांग्रेस को बैकफुट पर धकेल देगी। जो भी हो लेकिन आने वाले दिन भाजपा की राजनीति में काफी उथल-पुथल भरे रहने वाले हैं।

No comments:

Post a comment